Monday, September 14, 2009

उस गली में


उस गली में

मुस्कराता है एक बच्चा

हर शाम

निकलता हूं जब मैं

अपने काम पर


उसकी मुस्कान

मुझे दे देती है पंख

और मैं

उड़ता-उड़ता

अपनी पूरी ऊर्जा और वेग के साथ

पहुंच जाता हूं वहां

जहां लगी हैं कैंचियां

चारों तरफ

पर कतरने के लिए


हर रात

लौट आता हूं

रेंगता-रेंगता

अपने कटे हुए परों के साथ

उसी गली में

जहां मेरा घर है

और जहां

मुस्कराता है एक बच्चा

हर शाम

मुझे पंख देने के लिए

( 2006 में प्रकाशित कविता संग्रह बाकी बचें जो से )

8 comments:

  1. अच्छी कविता केसवानी जी. आपसे आकाशवाणी लखनऊ के कविता पाठ कार्यक्रम में मिल चुकी हूँ आज ब्लॉग जगत में भी भेंट हो गई. अच्छा लगा.

    शुभकामनाएँ,

    मीनू खरे,
    कार्यक्रम अधिशासी,
    आकाशवाणी लखनऊ.

    ReplyDelete
  2. बहुत सशक्त कविता.

    रामराम.

    ReplyDelete
  3. लाजवाब रचना है केसवानी जी...आपकी कवितायेँ पढने का मौका मिला...आपका संगीत ज्ञान तो जग विदित है लेकिन कविता क्षेत्र में आपका लेखन भी उतना ही श्रेष्ठ है...इसे कहते हैं विलक्षण प्रतिभा...
    नीरज

    ReplyDelete
  4. केसवानी जी अच्छी रचना !
    बधाई

    ReplyDelete
  5. दुनिया की दुरंगी चालों और दिन प्रतिदिन किये जाने वाले संघर्ष को बच्चों जैसी सहजता और सरलता से ही जीता जा सकता है ...फिर तो मन के किसी कोने में छिपे बच्चे का रोज एक नया पंख देना सार्थक ही हुआ ना ..
    बहुत शुभकामनायें ..!!

    ReplyDelete
  6. ब्लोगिंग जगत में आपका स्वागत है. आपको पढ़कर बहुत अच्छा लगा. सार्थक लेखन हेतु शुभकामनाएं. जारी रहें.


    ---
    Till 25-09-09 लेखक / लेखिका के रूप में ज्वाइन [उल्टा तीर] - होने वाली एक क्रान्ति!

    ReplyDelete
  7. Keswani ji,
    Though I am not very well conversant with Poetry, but the wordings of this poem describes the pathetic feeling of the poet which you have beutifully brought down in black and white.

    Note-- Keswani ji I do not know Hindi typing that's why I am writing in english. Pl excuse me.

    Regards

    R.P.Asthana
    Gwalior

    ReplyDelete
  8. बहुत जीवंत कविता के लिए बधाई...............अगर यह बच्चा हम सब को हर शाम पँख न दे तो कैसे बच पाएँगे हम ? यही जिजीविषा है....

    ReplyDelete