Monday, September 21, 2009

अलेक्ज़ेंडर ब्लाक

कोई सवा सौ साल पहले रूस में एक ऐसा कवि पैदा हुआ जो मेरे लिए कविताएं लिख गया है. मुझे इस बात से कोई ऐतराज़ नहीं होगा अगर कोई यह कह दे कि मेरा दावा ग़लत है और यह कविताएं दरअसल उसके लिए लिखी गई हैं. नो प्राब्लम. मैं हर इंसान का इस दुनिया की हर उस चीज़ में जो इस दुनिया को बेहतर बनाती है, उतना ही हक़ मानता हूं जितना कि अपना.

मैं रूस के इस अनूठे रंगों वाले कवि अलेक्ज़ेंडर ब्लाक (1888 – 1921) की बात कर रहा हूं. ब्लाक को पुश्किन के बाद का सबसे मह्त्वपूर्ण रूसी कवि माना जाता है. इनकी कविताओं का हिन्दी में भी शायद कुछ अनुवाद हुआ है मगर मैं इस समय उनके एक अंग्रेज़ी अनुवाद वाली कविता की बात कर रहा हूं, जो मुझे बार-बार पसंद आती है. आज भी उसी को दोहराना चाहता हूं.

To My Friends

We’re inwardly seething with envy
We’re hostile and deaf to each other,
If we could but banish this hatred
That goes on for ever and ever!

But what can we do? Each has poisoned
His house till it’s beyond human aid.
The walls are all dripping with venom,
There’s nowhere to lay down one’s head.

So what can we do? Disenchanted,
We laugh till our sanity is gone,
And, drunk, in the street, we stand watching
Our houses crash down to the ground.

We’re traitors in life and in friendship,
We squander our words without sense,
But what can we do? For we’re clearing
The way for our yet unborn sons.

When, under some fence in the nettles,
My own wretched bones lie a-rotting,
Some future historian will accomplish
A prodigious exploit of writing…

And all to inflict cruel torments
On kids who’ve not done any harm
With dates (birth and death) and revolting
Quotations as long as your arm.

A pitiful fate – all one’s lifetime
To experience heaven and hell,
Then be a dull lecturer’s victim
And spawn other critics as well…

Plunge into fresh weeds by the wayside,
Let total oblivion fall ;
Be silent, you volumes, confound you –
I just didn’t write you at all !

Alexander Blok

24 July 1908

Translated by Alex Miller (1981)


  1. ओह आज की सुबह बन गयी जी ।
    आनंद आ गया । हैरत है सौ बरस पहले की रचना आज की सी लगती है ।

  2. Its amazing...thanks a lot for such a selection...